Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

गौलोक धाम के दिव्य द्रश्य

  Views : 1731   Rating : 5.0   Voted : 11
submit to reddit  
Send your Master/Guru/God article to support@radhakripa.in to add in radhakripa. ?>
!! जय जय श्री राधे !!
Use following code to Embebd This Article in your website/Blog
Comments
2011-09-19 10:35:21 By Savitha Gangadhar

sri brahma samhitha me golok ke baare me thoda padhi thi...ab bahuth kush huva...aur jyada jyada aisa articles padna chahti hu, jai sri raadhe,jai sri krishn

2011-08-01 20:37:52 By Rajender Kumar Mehra

adbhut........radhe radhe

2011-06-30 22:44:49 By Prateek Sharma

jai jai shree radhe

2011-05-02 13:15:28 By ??? ???????

जय जय श्री राधे !

2011-04-28 19:53:28 By radha charano ke das

राधे राधे,गौलोक धाम - परिचय वाले आर्टिकल में गौलोक धाम कि भौगोलिक स्थिति का वर्णन है,जिस तरह विष्णु जी का वैकुण्ठ, रामचन्द्र जी का साकेत धाम है.उसी तरह श्री कृष्ण जी का गौलोक धाम है.जिसमे वृंदावन, यमुना, सारे दिव्य स्थान है. और जिसे व्रज के रूप में श्री कृष्ण जी ने पृथ्वी पर उतार था.श्री कृष्ण और राधिका जी तो व्रज में आने से पूर्व भी गौलोक धाम में थे और आज भी है.हमें आशा है राधा कृपा के आगे आने वाले आर्टिकलो में आपकी जिज्ञासा का समाधान जरुर होगा.राधे-राधे

2011-04-28 17:40:00 By sanwariya

जय श्री कृष्णा जेसा की आपकी कथा में गोलोक का वर्णन है तो ये गोलोक कहाँ है और इसके स्वामी श्री कृष्ण यदि उनके जन्म से पूर्व ही कृष्ण थे तो फिर विष्णु जी ने जो कृष्ण अवतार लिया वो क्या था और यदि गोलोक प्रथ्वीलोक से भिन्न है तो फिर पृथ्वी पर वृन्दावन क्यों बनाया जेसा की आपकी कहानी में बताया है उसके अनुसार क्या कृष्ण भगवान् और राधिका जी वृन्दावन में जन्म लेने से पहले ही कृष्ण एवं राधिका थे और क्या धरती पर वृन्दावन, यमुना और गोवेर्धन पर्वत होने से पहले कही और था ,ये थोडा असमंजस की स्तिथि पैदा कर रहा है एसा मेने पूर्व में कंही नहीं सुना फिर विष्णु अवतार और कृष्ण का ही कृष्ण अवतार ??? कुछ समझ में नहीं आ रहा कृपया पूर्व की कथा विस्तारपूर्वक सुनाकर जिज्ञासा का समाधान करे

2011-04-27 22:09:06 By satish yadav

shri radhekrishnaji ke darshan pakar ham dhanya ho gye jay shri krishnachandraji jay shri radhe radhe..

Enter comments


 
 
Tags :
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
गौ लोक धाम


  • Send your article to support@radhakripa.in
    to add in radhakripa.
    Last Viewed Articles
    eBook Collection
    सभी किताबे
    राधा संग्रह
    ग्रन्थ
    कृष्ण संग्रह
    व्रज संग्रह
    व्रत कथाएँ
    यात्रा
    Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
    You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com