Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

आध्यात्म में प्रेम की क्या व्याख्या है?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है ?

  Views :706  Rating :5.0  Voted :3  Clarifications :11
submit to reddit  
2885 days 3 hrs 5 mins ago By Gulshan Piplani
 

अध्यातम में भी प्रेम की वोही परिभाषा है जो भोतिकता में है| क्योंकि प्रेम तो स्वम ही अलोकिक है और अलोकिक तो लोकिकता में भी अलोकिक ही रहेगा परन्तु लोग इसे अपने स्वभावानुसार ही जान पाते हैं| - राधे राधे

2892 days 1 hrs 27 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey, mere liye bhagwan kuch nahi kewal prem hai... prem aur param satta jisse hum bhagwan kehte hai yeh donno shabd praryayvachi hai.. toh adhyatma hume bhagwan ke aur aakarshit karke le jata hai aur prem hee bhagwan hai.. jai shri radhey

2894 days 5 hrs 49 mins ago By Vipin Sharma
 

radhe radhe

2896 days 6 hrs 46 mins ago By Vipin Sharma
 

PREM KE BINA ADHYATM NAHI HO SAKTA JAB KISI SE PREM HOGA TAB HI HUM USI KI TARAF AKARSHIT HOTE H OR USE PAANE KI ICCHHA RAKHTE HAIN

2901 days 8 hrs 23 mins ago By Aditya Bansal
 

प्रकृति की एक लय हैं ! हमारे शरीर की भी एक लय हैं ! जब हमारी लय प्रकृति के साथ सामंजस्य में होती हैं तो जीवन एक सुन्दर उत्सव हो जाता हैं|

2913 days 4 hrs 3 mins ago By Gulshan Piplani
 

राधे राधे - अध्यातम में प्रेम की क्या परिभाषा है? जो करना पड़े वोह प्रेम नहीं वोह लोभ है और जो लोभवश नहीं होता मात्र वोह ही प्रेम है - गुलशन हरभगवान पिपलानी

2917 days 23 hrs 6 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... आध्यात्म में सम्पूर्ण समर्पण का भाव ही प्रेम होता है।

2919 days 1 hrs 10 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

अध्यात्म में प्रेम की व्याख्या क्या है प्रश्न पढ़ कर मन में विचार आया कि क्या प्रेम की व्याख्या हो सकती है | कबीर साहिब ने भी लिखा है "पोथी पढ़ी पढ़ी जग मुवा पंडित भयो ना कोई और ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो सुपंडित होए " | लेकिन पढ़े कैसे प्रेम पढने से होता ही नहीं वो तो हो जाता है जब हो जाता है तो प्रेमास्पद के सिवा कुछ नज़र ही नहीं आता | फिर कबीर साहिब ने ये भी कहा प्रेम गली अति सांकरी जा में दो ना समाये | इस बात से दिल सहमत है जब प्रेम ह्रदय में उत्पन्न हो जाता है तो उस ह्रदय से सब निकल जाता है बस प्रेमास्पद के सिवा कुछ नहीं रह जाता उसकी नज़र जहाँ भी जाती है उसे अपने प्रेमास्पद के सिवा कुछ नज़र नहीं आता | मीरा को प्रेम हुआ बोली "मेरे तो गिरधर गोपाल दूसरो ना कोई "| प्रेम हो जाए बस फिर उसके आनंद से वो बाहर नहीं आ सकता | और जब विरह का आनंद हो तो उसका कहना ही क्या क्योंकि जब प्रेम में मिलन होता है तब तो प्रेमास्पद सामने होता है और जव विरह होता है तो प्रेमास्पद सर्वत्र नज़र आता है उस आनंद को जिया जा सकता है कहा नहीं जा सकता गोपिओं ने उसे जिया उस आनंद को जिया विरह के उस अद्भुत आनंद को जिया | मीरा ने भी ऐसे ही विरह को जिया और ऐसा कहा "जो मैं ऐसा जानती प्रीत किये दुःख होए नगर ढिंढोरा पीटती की प्रीत ना करियो कोई" | इस वाक्य में भी उनका आनंद छिपा है विरह के उस आनंद को जो जीता है वही जान सकता है उसे व्यक्त नहीं किया जा सकता | प्रेम एक विशुद्ध भाव है उसके बारे जब कुछ भी लिखा जाएगा उसमे कोई ना कोई बनावट जरूर होगी | प्रेम मन में छिपा वो भाव है जो प्रेमास्पद के सामने होने पर मन को आत्म विभोर करता है और उसके दूर होने पर भी उसके विरह हर जगह उसके दर्शन करके आत्म विभोर रहता है | राधे राधे

2919 days 5 hrs 6 mins ago By Nidhi Nema
 

राधे राधे, आध्यात्म में प्रेम ही आनन्द है और आनन्द ही प्रेम है.जिस आनंद को पाने के बाद शेष कुछ भी पाना शेष नहीं रह जाता.यहाँ आनंद ही सबकुछ है.

2919 days 8 hrs 12 mins ago By Pradeep Narula
 

2919 days 13 hrs 4 mins ago By Dasi Radhika
 

प्रेम हमारा अस्तित्व है। तुम्हारे शरीर के सभी अणु एक दूसरे से प्रेम करते हैं और तभी तो तुम एक मनुष्य के रूप में हो। तभी तो एक मालिक है। जिस क्षण ये प्रेम का बंधन छूट जाये उसी क्षण इस शरीर का नाश हो जाता है। मैं प्रेम को अस्तित्व के रूप में देखता हूं, ना कि केवल एक भावना के रूप में। प्रेम के साथ ज्ञान हो तो आनंद होता है।"राधे राधे"

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Latest Video
Latest Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1382
Baanke Bihari
   Total #Visiters :307
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :248
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :359
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :426
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :248
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com